चुनरिया धानी लैहौं (कजरी गीत )

आयो सावन मास चुनरिया धानी लैहौं

हरे हरे अम्बर,हरी हरी धरती 
हरे हरे बूँद बदरिया झरती 
कजरी गाय सुनैहौं, चुनरिया धानी...

हरी हरी मेहंदी पीस रचाई 
हरी हरी चुड़ियों से भरी है कलाई
बेसर नाक पहिरिहौं,चुनरिया धानी...

अठरा बरस की मैं  ब्याह के आई
मैं बनी राधा पिया किशन कन्हाई
झूम के रास रचैहौं,चुनरिया धानी...
 
निमिया की डारि पे पड़ गए झूले
रेशम डोरी लागी रंग सजीले  
मारि पेंग नभ छुइहौं,चुनरिया धानी... 

कोई सखी काशी कोई सखी मथुरा
सुधि मोहें आवे लागे न जियरा
पाती भेजु बुलवइहौं,चुनरिया धानी...

अम्मा औ बाबा की याद सतावे
रहि रहि करेजवा में पीर मचावे
बीरन आजु बुलैहौं,चुनरिया धानी...

आयो सावन मास चुनरिया धानी लैहौं...

 **जिज्ञासा सिंह**

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और गेय कजरी है जिज्ञासा !
    'बीरन आज बुलैहों --' से मुझे फ़िल्म बन्दिनी के गीत -
    'अब के बरस भेज, भैया को बाबुल,
    सावन में ले जो बुलाय रे --'
    की याद आ गयी.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सर, आपकी सार्थक प्रतिक्रिया को हार्दिक नमन एवम वंदन।

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर गीत रचा आपने जिज्ञासा जी। इस पर तो कोई संगीतकार मधुर धुन बना सकता है और फिर किसी कुशल गायिका द्वारा इसे गाया जा सकता है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जितेन्द्र जी, आपकी बात सही है, मैने यूट्यूब चैनल बनाया है, मैं गाकर, आगे डालने की कोशिश करूंगी।

      हटाएं
  3. "कोई सखी काशी कोई सखी मथुरा
    सुधि मोहें आवे लागे न जियरा
    पाती भेजु बुलवइहौं,चुनरिया धानी..."

    आपके गीतों में ही सावन को जी ले रहें है हम बाकि तो ये सावन और ये गीत कब के भूल चुकें है सब।
    मनमोहक.....मनभावन गीत.... प्रिय जिज्ञासा जी

    जवाब देंहटाएं
  4. सही कहा प्रिय सखी,ऐसा ही जीवन हो गया है, पर मेरे अंदर जब कुलांचे मारती हैं सावन की घटा,तो गीत बन हो जाते हैं,आपको मेरा सादर नमन एवम।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर कजरी गीत ... अभी सावन पूरी तरह नहीं आया पर आपके इस गेयता लिए गीत ने सावन का एहसास करा दिया है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत आभार दिगम्बर जी,सादर नमन।

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आपकी प्रशंसनीय प्रतिक्रिया को नमन है।

      हटाएं
  7. शिवम् जी आपका बहुत बहुत आभार।

    जवाब देंहटाएं
  8. सरस सुंदर भावों को संजोए ऋतु गीत ।
    कजरी मन मोहक ।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बहुत आभार कुसुम जी,सादर नमन।

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह!!! बहुत सुंदर। अब गा के भी सुना ही दीजिए। या कहिए तो भेज दें किसी म्यूज़िक प्रडूसर के पास :)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा,बिलकुल सर जल्दी डालूंगी और आपको सूचित करूंगी,क्योंकि आप का मार्गदर्शन तो गुरु जैसा होता जा रहा है,थोड़ा झिझक थी, पर अब डालूंगी। आपके शब्द प्रेरणा बनते हैं, आपको मेरा सादर अभिवादन।

      हटाएं
  11. वाह! सुंदर सावन गीत जिज्ञासा जी। नारी मन के समस्त भावों को उजागर करता हुआ। हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार रेणु जी,आपकी प्रशंसनीय प्रतिक्रिया को सादर नमन।

      हटाएं
  12. बहुत मधुर, बहुत मनभावन, बहुत सुखद.

    अम्मा औ बाबा की याद सतावे
    रहि रहि करेजवा में पीर मचावे

    कजरी के लिए बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  13. आपकी सुंदर टिप्पणी मन मोह गई, आपका बहुत बहुत आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  14. सावन का मौसम, उसकी दस्तक और कजरी का आनंद ...
    मधुर गुंजन सा ...

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत बहुत आभार दिगम्बर जी।

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत बहुत आभार जोशी जी।

    जवाब देंहटाएं