ई बीवी जी का जंजाल हो (अवधी नकटौरा का गीत)


ई बीवी जी का जंजाल हो…रोजय ताना मारे 

बड़े प्रेम से ब्याह के लाया                                   
साड़ी औ कपड़े, गहने दिलाया ।                             
सज के पड़ोसी के ठाढ़ हो, रोजय ताना मारे              
ई बीवी....

बड़े शौक से होटल ले आया                               
मोमोज, पिज्जा, बर्गर मंगाया                               
बैठी गपागप खाय हो, रोजय ताना मारे                   
ई बीवी...

बड़े शौक से पिक्चर ले आया                           
पिक्चर उसको “राज़ी” दिखाया                              
बिक्की कौशल पे मचली जाय हो, रोजय ताना मारे।            
ई बीवी...

एरोप्लेन का टिकट कराया                               
दिल्ली, बम्बई, कलकत्ता घुमाया                              
वो तो लंदन पे मचली जाय हो, रोजय ताना मारे।       
ई बीवी...

ऐसी बीबी पाय अघाए                                     
बतिया मोरी समझ न पाए                                   
मोरी बोली सुने गुर्राय हो, रोजय ताना मारे ।                
ई बीवी…

**जिज्ञासा सिंह**           
शब्द- अर्थ 
नकटौरा- लड़के के विवाह की एक रस्म जो बारात जाने के बाद महिलाएँ मनोरंजन के तौर पर मनाती हैं ।    

14 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (22-5-22) को "यह जिंदगी का तिलिस्म है"(चर्चा अंक-4438) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (22-5-22) को "यह जिंदगी का तिलिस्म है"(चर्चा अंक-4438) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  3. अजब गजब रस्म । वैसे बीवियों पर तंज कर सारा दोष उन्हीं पर मढ़ दिया ।
    रोचक गीत

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 24 मई 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  6. बाप रे ! ऐसी नखरे वाली और शिकायत के पिटारे जैसी दुल्हनिया लाने से तो अच्छा था कि बेचारा उम्र भर कुंवारा ही रहता.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने पिछली पोस्ट पर पुरुषों के संदर्भ की बात की थी । उसी के उपलक्ष्य मैने गीत पोस्ट किया ।

      हटाएं
  7. आपका बहुत बहुत आभार आपका ।

    जवाब देंहटाएं