अन्य ब्लॉग

देवी गीत..

 

(चुपके चुपके आईं, भवानी मोरे अँगनवाँ


भोर भये रवि आने से पहले

देख नहीं मैं पाईभवानी मोरे अँगनवाँ


बाग हँसन लगेकमल खिलन लगे

कलियाँ हैं लहराईंभवानी मोरे अँगनवाँ


गोदिया बालक हँसि मुस्काने

मोहें नज़र नहीं आईं,भवानी मोरे अँगनवाँ


व्याकुल मन मोरा माँ को ढूँढ़े

दिख जाए परछाईंभवानी मोरे अँगनवाँ


मन देखाअंतर्मन देखा

हृदय बीच मुस्काईं, भवानी मोरे अँगनवाँ


नेह  श्रद्धा की छवि सुंदर

नैनन बीच समाईं, भवानी मोरे अँगनवाँ


चुपके-चुपके आईं, भवानी मोरे अँगनवाँ


(सारे नगर मची धूम जगदंबे आइँ

गाँव-शहर मची धूम माँ दुर्गे आइँ


पेड़ पकड़िया सब हर्षाने

चलीं हवाएँ झूम-झूम जगदंबे आइँ


नदियाँ बहन लगीं कुआँ भरन लगे

बादल बरसा घूम-घूम जगदंबे आइँ


अपनी अँटरिया पे चढ़ि-चढ़ि देखूँ

जयकारे नभ रहे चूम जगदंबे आइँ


आगे-आगे मैया पीछे संसार चले

अगल-बगल चले झुंड जगदंबे आइँ


जनगण मैया की अरती उतारें

बाजन बाजे बूम-बूमजगदंबे आइँ 


सारे नगर मची धूम जगदंबे आइँ 


**जिज्ञासा सिंह**

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना सोमवार 26 सितम्बर ,2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    जवाब देंहटाएं
  2. जिज्ञासा सिंह25 सितंबर 2022 को 11:55 am बजे

    बहुत बहुत आभार दीदी !
    मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ !

    जवाब देंहटाएं
  3. जिज्ञासा जी अत्यंत सुंदर गीत।
    आपके गीत ने वो दिन याद दिला दिया नवरात्रों मे मुहल्ले भर की स्त्रियाँ शाम को ढोलक और मंजीरा लेकर मंदिर के सामने खूब भजन गाती थी। कॉपी,डायरी नये पुराने गीतों से भरे होते थे।
    अब तो न वो लोग रहे न वैसा कोई माहौल।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. श्वेता जी हमारे यहां तो गीत गायन की परंपरा पहले जितनी तो नही पर अभी भी काफी है ।
      आपकी सुंदर प्रतिक्रिया ने सृजन को सार्थक कर दिया ।

      हटाएं
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (27-9-22} को "सर्वमंगला मंगल लाए"(चर्चा-अंक 4564) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत भावपूर्ण रचना…नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ 💐

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण रचना…नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ 💐- उषा किरण

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. बहुत आभार सुधा जी । नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. बहुत आभार अनीता जी । नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

      हटाएं
  9. माता की सुन्दर और भावपूर्ण वन्दना !

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत आभार आदरणीय सर । नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

    जवाब देंहटाएं